YUV News Logo
YuvNews
Open in the YuvNews app
OPEN

फ़्लैश न्यूज़

रीजनल

एमसीडी से दिल्लीवालों की नाराजगी, भाजपा पर पड़ी भारी

एमसीडी से दिल्लीवालों की नाराजगी, भाजपा पर पड़ी भारी

एमसीडी से दिल्लीवालों की नाराजगी, भाजपा पर पड़ी भारी
दिल्ली विधानसभा चुनाव में अरविंद केजरीवाल की आंधी चली और एक बार फिर से भाजपा का सूपड़ा साफ हो गया। बीजेपी के हार के कई कारण हैं लेकिन उनमें नगर निगम की खराब छवि को भी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। खुद बीजेपी के नेता भी मानने लगे हैं कि नगर निगम ने बीजेपी की लुटिया डुबो दी। बीजेपी के नेता और नगर निगम के पूर्व चेयरमैन जगदीश ममगई कहते हैं की एमसीडी की छवि ने बीजेपी का भारी नुकसान किया है। जगदीश ममगई का कहना है कि "इसमें कोई दो राय नहीं है कि दिल्ली में आम जनता के मन में एमसीडी को लेकर अच्छी छवि नहीं है। दिल्ली में हर जगह कूड़ा पड़ा हुआ है, नगर निगम भ्रष्टाचार का अड्डा बना हुआ है और ऐसे में जब मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल नगर निगम के मॉडल से दिल्ली सरकार के मॉडल की तुलना करते हैं तो नगर निगम बहुत पिछड़ा हुआ नजर आता है। लेकिन जगदीश ममगई कहते हैं कि ऐसा नहीं है कि नगर निगम ने कोई काम नहीं किया लेकिन अरविंद केजरीवाल के काम के बदले प्रचार करने के मामले में नगर निगम बहुत पीछे रह गया।
दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर भी कहते हैं कि नगर निगम की छवि से बीजेपी को नुकसान तो हुआ है लेकिन इसके लिए पार्षद नहीं अधिकारी जिम्मेदार हैं। प्रवीण शंकर कपूर कहते हैं, "नगर निगम के फैसलों से दिल्ली की जनता में काफी नाराजगी है लेकिन इन फैसलों के पीछे नगर निगम के अधिकारी होते हैं ना कि चुने हुए नेता। मैं इस बात को पिछले कई सालों से कहता आया हूं और फिर से कह रहा हूं कि अब नगर निगम के कामकाज में बदलाव का वक्त आ गया है। या तो नगर निगम के नेताओं का काम ही खत्म कर दिया जाए या फिर अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की जाए। दरअसल आंकड़े बताते हैं कि इस बार बीजेपी ने तकरीबन एक दर्जन मौजूदा निगम पार्षदों को विधानसभा चुनाव का टिकट दिया लेकिन एक भी पार्षद विधानसभा पहुंचने में कामयाब नहीं रहे। इसके उलट आम आदमी पार्टी के तमाम पार्षद इस चुनाव में जीतने में सफल रहे। हालांकि एमसीडी में बेहद महत्वपूर्ण पदों पर रहे और अब दिल्ली बीजेपी के महामंत्री राजेश भाटिया इस बात से  इत्तेफाक नहीं रखते। राजेश भाटिया कहते हैं कि नगर निगम ने काम तो बहुत किया पर प्रचार ना कर पाने से छवि सुधर नहीं पाई। राजेश भाटिया का कहना है कि "मैं नहीं मानता कि नगर निगम की छवि खराब है और इस वजह से बीजेपी को चुनाव में नुकसान उठाना पड़ा। हां इतना तय है कि नगर निगम अपने कामकाज का प्रचार, केजरीवाल की तरह नहीं कर पाए। अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली चुनाव के दौरान एमसीडी के कामकाज और दिल्ली सरकार के कामकाज की तुलना करते हुए बीजेपी पर कड़ा हमला किया था। दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने मौजूदा और पूर्व पार्षदों पर भी दांव लगाया था। शिखा राय जो दक्षिणी दिल्ली नगर निगम में पार्षद हैं, उन्हें ग्रेटर कैलाश से टिकट दिया था पर वो हार गई। कैलाश सांकला, साउथ एमसीडी से बीजेपी पार्षद हैं, उन्हें भी टिकट मिला गया था। नॉर्थ एमसीडी में स्थाई समिति के चेयरमैन और बीजेपी के सदर बाजार से पार्षद जय प्रकाश को सदर बाजार विधानसभा से बीजेपी का उम्मीदवार बनाया गया था। बीजेपी पार्षद विजय भगत, किरण वैद्य और मनीष चौधरी को भी बीजेपी ने अपना उम्मीदवार बनाया था पर कोई भी उम्मीदवार जीत नही सका।

Related Posts

0 comments on "एमसीडी से दिल्लीवालों की नाराजगी, भाजपा पर पड़ी भारी"

Leave A Comment